Dropdown Menu

Aug 1, 2017

शिखर होम्योपैथिक क्लिनिक, हल्द्वानी

शिखर होम्योपैथिक क्लिनिक
कपिल काम्प्लैक्स,
मुखानी, 
के डी रोड़
हल्द्वानी
जिला:- नैनीताल
उत्तराखंड


डॉ रविंद्र सिंह मान
बी एच एम एस(जयपुर)

डॉ वंदना पाटनी
बी एच एम एस(जयपुर)


वर्तमान समय में होम्योपैथिक चिकित्सा, ऐलोपैथी के बाद इस्तेमाल की जा रही दूसरी सबसे बड़ी चिकित्सा पद्वति है. भारत जैसे विशाल आबादी वाले विकासशील देश में प्रतिदिन 10 फीसदी मरीज होम्योपैथी चिकित्सकों से परामर्श लेते हैं. केंद्र व राज्य सरकारें भी बड़े राजकीय चिकित्सालयों से लेकर प्राथमिक चिकित्सा केंद्रों के स्तर तक होम्योपैथिक डिस्पैंसरियों के माध्यम से होम्योपैथिक चिकित्सकों को नियुक्त कर रही है.

होम्योपैथिक चिकित्सा विधि द्वारा सामान्य खाँसी, बुखार, मलेरिया, वायरल जैसी मौसमी बीमारियों के साथ- साथ ल्युकोडर्मा, सोरायसिस, कोलाइटिस, गंजापन, एक्जिमा, मानसिक रोगों, अनिद्रा, यौन रोगों जैसे बेहद पुराने, व लाईलाज रोगों का भी सफलता पूर्वक ईलाज किया जाता है.

नवजात बच्चों, गर्भवती महिलाओं, तथा बुजुर्ग मरीज़ों को भी किसी साईड-इफेक्ट के डर के बिना होम्योपैथिक दवायें दी जा सकती हैं.

शिखर होम्योपैथिक क्लिनिक की स्थापना 2003 में हुई. तभी से हम होम्योपैथिक चिकित्सा के उच्चतम मानदंडों का पालन करते हुऐ, लाखों मरीजों की सफल चिकित्सा करने में कामयाब हुये हैं. 

होम्योपैथिक चिकित्सा अन्य चिकित्सा पद्धतियों से दो मुख्य कारणों से भिन्न है. पहला तो यह कि, होम्योपैथी में चिकित्सा व दवा, रोग (disease) के आधार पे नहीं, बल्कि रोगी के विभिन्न शारीरिक, मानसिक व भावनात्मक लक्षणों के आधार पे दी जाती है. होम्योपैथी का मूल मंत्र सिर्फ रोग ठीक करने से भी बढ़कर, रोगी को पुनः स्वस्थ करना है.

दूसरा, अन्य सभी चिकित्सा पद्धतियों के विपरीत, होम्योपैथी न्यूनतम दवा की मात्रा, व कम से कम दवाओँ के इस्तेमाल के सिद्धांत पे विश्वास करती है.यही वजह है कि, होम्योपैथिक चिकित्सा बिना साईड इफ़ेक्ट वाली चिकित्सा पद्वति के रूप में प्रसिद्ध है.

किसी भी चिकित्सा पद्धति की मान्यता बढ़ने और अधिक इस्तेमाल शुरू हो जाने पर उसमें दोष आने लगते हैं. होम्योपैथिक चिकित्सा भी कोई अपवाद नहीं है. ऐलोपैथी की ही तरह होम्योपैथिक दवा कंपनियों ने भी विभिन्न काम्बिनेशन पेटन्ट्स बनाने प्रारम्भ कर दिये हैं. अलग- अलग रोगों के लिये कई- कई दवाओं को मिलाकर काम्बिनेशन तैयार किये जा रहे हैं, व अनेक होम्योपैथिक चिकित्सक भी इन पेटन्ट्स को खुल कर इस्तेमाल कर रहे हैं, जो कि होम्योपैथिक चिकित्सा के मूल सिद्धांतों के खिलाफ है. रोगी के रूप में यदि आपको इसी प्रकार के काम्बिनेशन किसी होम्योपैथिक चिकित्सक द्वारा दिये जा रहे हैं, तो सावधान हो जाएं, क्योंकि इन काम्बिनेशन से आपको थोड़ी राहत जरूर मिलेगी लेकिन होम्योपैथी द्वारा बिना साईड इफेक्ट के जड़ से रोगों के ठीक हो जाने का आपका विश्वास शायद कायम न रह पाये. 

इस प्रकार के सभी काम्बिनेशन होम्योपैथिक दवाओं से जरूर बने हैं, लेकिन ये होम्योपैथिक चिकित्सा के सिद्धांतों का उलंघन करके बनाये गए हैं, इनके उपयोग से गम्भीर साईड इफेक्ट भी हो सकते हैं तथा फौरी राहत से ज्यादा आराम आप इन पेटन्ट्स से नहीं पाएंगे.





No comments: